Saturday, 25 March 2017

जिद्दी चिराग....

आँधियों देखते हैं तुममे भी कितना दम हैं,
चिराग आज भी तेरी ही जद में रोशन हैं,
है तू जिद्दी तो नन्हा चिराग क्या कम है,
टिकेगा वो ही जिसमे अंत तक जूझने का दमखम हैं..........................

Friday, 24 March 2017

ये कैसी वजह ......

हजारो नाम है किरदार के
हजारो शख्सियते भी है,
कोई अपना कहता हैं हमे,
कोई दुश्मन मानता भी हैं,
दोनों ही रिश्ते हैं,
मगर इनकी हदें भी है,
कहने को तो ये दुनिया बहुत बड़ी हैं,
मगर ये घूमती रहती हैं क्यों इसकी वजह भी हैं,
ये वापिस फिर उसी मोड़ पे लाती है इंसान को ,
जहां पे मौत मिलती जिंदगी से गले भी है,..........

Monday, 20 March 2017

हवा के साज पे लोगो का अंदाज

हवा की दिशा के साथ बहने वाले लोग
हवाओं की दिशा बदलते ही अपना रास्ता बदल लेते हैं,
उलटी हवा में उन्हें टिकना नही आता,
उसूलों की चटनी बनाके खा जाते हैं,
बेईमानी के शरबत के साथ पी जाते हैं अपना आत्मसम्मान,
रह जाते हैं मार के अपनी आत्मा,
खुद को जिंदा बताते हैं,
पर उन्हें जीना नही आता,
दफ़न कर देते हैं अपनी मन की हर आवाज को मन में,
कि बेबाकी से उनको जख्म को सीना नही आता,
सर को गुरुर से उठा के चलते हैं,
उन्हें ईश्वर के आगे सर झुकाना नही आता,
बेतालों की तरह नाचते हैं दुनिया की हर लय पे,
कि जिंदगी की सरगम को पहचाना नही आता
........

Sunday, 12 March 2017

हौसलें की ताकत........................

लोग ऐसे  भी हैं दुनिया में जो मर मर के भी जीते हैं ,
अपने सारे दुखो को पानी की तरह पीते हैं ,
पर हौसलों की ताकत हैं कि सब सहकर भी हँसते हैं ,
और अच्छे दिनों कि कामनाये रखते हैं ,
उम्मीद हैं उन्हें आज भी उस दिन कि जो आज तक नही आया ज़िन्दगी में उनकी ,
नही मिल पाया खुशियों का एक पल भी सुकून से फिर भी करते हैं इन्तजार
नही मानते ज़िन्दगी से हार

Friday, 10 March 2017

जय सिया राम, भगवा आ ही गया

केसर जितना पवित्र और सुगंधित है
केसरिया रंग भी सद भाव और शान्ति का प्रतीक हैं
अब तो रंग केसरिया ही छा गया
होली आयी तो पूजा को कमल भी खिल के आ गया
रंगों रंग केसरिया
होली भई केसरिया ...............जय सिया राम

Saturday, 8 March 2014

टेढ़े मेढ़े रास्ते

टेढ़े मेढ़े रास्ते हैं गिरना हैं, सभलना हैं ,
चोटें भी लगेगी पर फिर भी हमे चलना हैं ,
इन रास्तो पे चलते और संग संग चलते कुछ और अजनबी हैं ,
कुछ दूर तक हैं अपने कुछ को बीच में मुड़ना हैं ,
अनजान रास्तो पे अनजान मुश्किलो से हमे खुद ही उबरना हैं ,
ये वक़्त न रुका हैं , न जीवन चक्र ही थमा हैं ,
जब तक हैं जान बाकी साँसों को तो चलना हैं .........

Sunday, 24 March 2013

हंसी या सजा

मुस्कुराने की हमें हमेशा सजा मिली ,
एक हंसी भी हजार आसुओं के साथ मिली ,
ये हमारी किस्मत को अच्छी सौगात मिली,
चंद पल मुस्कुराना चाहा, तो आंसुओं की बरसात मिली |
ढूंढने चले जब हम अपने हिस्से की खुशियाँ,
हमे बदले में हमेशा वक़्त की मार मिली |
नही उम्मीद नही आस न कोई किस्मत से गिला ,
सोच लेंगे जो किस्मत में था सिर्फ वही मिला ,
हो सकता हैं किस्मत ही लिखी गयी हो आंसुओं से हमारी
तभी हर हालत हर बात पे आंसू ही मिला |

Sunday, 10 February 2013

इंसानी मौत का यह कैसा मजाक

इंसान की मौत की जिम्मेवारी  एक दुसरे पर आरोप प्रत्यारॊप लगाते ये  लोग ,
उनकी मौत पर भी जुर्माने की मोहर लगाते  ये लोग ,
क्या यह इंसानी जान पैसे में खरीदी जा सकती हैं क्यों इंसान की मौत का भी मजाक बनाते  ये लोग ,
जुर्माने की आड़ लेकर अपनी राजनीती खेलनेवाले क्यों दिखावे का शोक दिखाते ये लोग ,
अखबारों के लिए हैं ये महज बस एक खबर हादसों के नाम पर अपनी भुनाते ये लोग |
मन को  व्यथित और आक्रोशित कर जाते ये लोग ।
उनसे जानो जिनके घर के चूल्हे ठन्डे पड़ गये जिनके अपने कभी  वापिस न आने वाली राह पर चढ़ गये ,
दर्द उनका हम महसूस भी नही कर पायेंगे और मरहम लगाने का उन पर ढोंग रचाते  ये लोग ।